अनुसंधान और प्रकाशन

 

डॉ. प्रशांत वर्मा और डॉ. अली Nosrat दंत चिकित्सा के मैरीलैंड विश्वविद्यालय के स्कूल में संकाय पर हैं, Endodontics का विभाजन. वे वर्जीनिया में हमारे बहन कार्यालय में एक साथ अभ्यास- Centerville Endodontics. वे एक सक्रिय अनुसंधान सहयोग बनाए रखने के. हमारे सहकर्मी की समीक्षा प्रकाशन देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.

         

Revitalizing previously treated teeth with open apices: a case report and a literature review

Nosrat एक., Bolhari B., Saber Tahan S., Dianat O., Dummer P.M.H.

International Endodontic Journal. 2021

Regenerative endodontic procedures were introduced for treatment of immature teeth with primary endodontic infection. तथापि, overtime clinicians tried modifications of this technique in previously root canal treated teeth and achieved successful outcomes. This means that there is an option to revitalize a previously root canal treated tooth that has open apex.Revitalizing the root canals of previously treated teeth with open apices is appealing to both clinicians and patients. तथापि, there are fundamental differences in the microbiome and the microenvironment between a canal with a primary endodontic infection and a canal with a persistent endodontic infection. This study is a first review on the baseline, procedural and outcome data of previously treated teeth retreated and revitalized using regenerative endodontic treatments. The authors of the study also designed an assessment tool for case report studies and applied it to case reports included in this study. This assessment process showed most case reports in this field had afairquality of evidence.

        

Accuracy and efficiency of guided root-end resection using a dynamic navigation system: a human cadaver study

Dianat O.Nosrat एक., Mostoufi B., Price J.B., Gupta S., Martinho F.C.

International Endodontic Journal. 2021

When a root canal treatment fails one treatment option is root-end surgery. During this surgery the clinician should be able to conservatively navigate a path to the infected root apex. Targeting the root apex during root-end surgeries can be a challenging task specifically if the root apices are far from cortical plate. Dynamic Navigation System (DNS) is a new technology introduced to the field of dentistry to primarily help clinicians to navigate the path of drilling for dental implants. The system’s software uses the cone computed tomography (सीबीसीटी) images to design a path of drilling for surgeon. The technique used in this system is a dynamic method, meaning that the clinician looks at a screen in front of them (instead of patient’s mouth) where they can see the virtual path to the target point. In this research study we examined the performance of DNS for a guided root-end resection on human cadaver teeth for the first time. We compared the linear and angular deviation of the drilling as well as time of operation using DNS compared to a free hand technique done under microscope magnification. The data from this study showed a significantly higher accuracy and efficiency in the DNS group. The data also showed that unlike the DNS group, in the free hand group the accuracy and efficiency (अर्थात. time of operation) of the clinician was negatively associated with the distance of the root apex from cortical plate.    

          

Non-Hodgkin Lymphoma Mimicking Endodontic Lesion: A Case Report with 3-dimensional Analysis, Segmentation, and Printing

Nosrat एक.वर्मा पी., Glass S., Vigliante C. E., Price J.B.

Endodontics के जर्नल. 2021; 47(4): 671-676

Misdiagnosis of malignant radiolucent lesions is a crucial mistake because these lesions can mimic endodontic infections. A misdiagnosis delays receiving the appropriate medical treatment, which can be catastrophic. In this case report paperfor the first time we used CBCT images to segment and print a 3D model of a non-Hodgkin lymphoma in the maxilla. CBCT imaging is a technology available in many general dentist and Endodontist offices and the images can be easily used for prepare a 3D model of a bony lesion. This methodology can be useful in assessing, diagnosing, and treatment planning for surgical removal of a malignant lesion in the bone. In this case, the 3D printed models of the tumor allowed for a realistic and crucial evaluation of the tumor’s location and size. This information can also provide a baseline radiographic reference in case of tumor recurrence.

           

Postoperative Pain: An Analysis on Evolution of Research in Half-Century

Nosrat एक.Dianat O., वर्मा पी., Nixdorf D.R., Law A.S.

Endodontics के जर्नल. 2021; 47(3): 358-365
       

Examining the evolution of research parameters helps scientists to discover the well-developed and neglected aspects of knowledge. Pain after root canal treatment is a health problem affecting millions of patients. Research in this field has a meaningful impact on quality of lives. In this research project we examined the research variables of 424articles published on postoperative pain in the field of endodontics published since 1970. We then performed a “trend analysisto discover trend of research in the past five decades. The trend analysis quantifies and explains trends and patterns in noisy data overtime. The analyses showed that there is still a significant need for studies with large sample sizes and long duration of follow up. We also discovered that there has been a lack of focus on clinical conditions that are more prone to postoperative painmainly teeth with pulp necrosis and teeth with failed root canal treatment. We recommended a paradigm shift in research studies regarding these variables to generate more clinically-relevant data.

     
    

Accuracy and Efficiency of a Dynamic Navigation System for Locating Calcified Canals

Dianat O.Nosrat एक., Tordik P.A., Aldahmash S.A., Romberg ई, Price J.B., Mostoufi B.
 
Endodontics के जर्नल. 2020; 46(11): 1719-1725
 

Dynamic Navigation System (DNS) is a new technology introduced to the field of dentistry to primarily help clinicians to navigate the path of drilling for dental implants. The system’s software uses the cone computed tomography (सीबीसीटी) images to design a path of drilling for surgeon. The technique used in this system is a dynamic method, meaning that the clinician looks at a screen in front of them (instead of patient’s mouth) where they can see the virtual path to the target point. If the clinician deviates from path or starts drilling at a wrong spot the system stops and does not allow to continue. The novel technology has potential for use in the field of endodontics where a projected approach towards a target is always a clinical challenge. Calcified canals are one of the clinical challenges that endodontists deal with in their daily practice. In this research project, we used the DNS to locate calcified canals in human teeth for the first time. We compared the linear and angular deviations of the drilling path as well as time of operation (अर्थात. efficiency) to a free hand technique done under microscope magnification. The data showed that DNS had a significantly less linear and angular deviation when compared with free hand technique under microscope. DNS was significantly more efficient than free hand technique.

      

Regenerative endodontic treatment in immature noninfected ferret teeth using blood clot or SynOss putty as scaffolds

Alexander A., Torabinejad एम, Vahdati S.A., Nosrat एक., वर्मा पी., Gandhi A., Shabahang S.

Endodontics के जर्नल, 2020;46(2): 209-215

The research on scaffolds used in Regenerative Endodontic Treatments (सही) is an evolving field. A newcollagen hydroxyl-apatite-based scaffold called SynOss was introduced for use in RET.Our group published previous reports on successful use of SynOss in human teeth. The present research study was designed to test SynOss in ferretsto understand the differences between SynOss and blood clot, a common scaffold used in RET. This study showed lack of tissue formation in most teeth where SynOss was used as scaffold. We concluded that the ferret model was not the right model to test this new scaffold. Further studies using different animal models were suggested to evaluate and compare the histological outcome of RET using SynOss compared to blood clot.

        

Regenerative endodontic treatment as a biologically based approach for non-surgical retreatment of immature teeth

Cymerman J.J., Nosrat एक.

Endodontics के जर्नल, 2020;46(1): 44-50

There is no consensus in using regenerative endodontic treatments (सही) in teeth with previous root canal treatment. This article documents the long-term outcome of RET in previously treated immature teeth. In order to make the outcome stable and predictable, the authors used a novel collagen-hydroxyapatite based matrix, SynOss, mixed with blood as a scaffold. The cases were followed up for up to 6 years. The follow ups were done using 2D and 3D imaging technology. The successful outcome of these cases showed that RET can be a viable treatment option in immature teeth with failed root canal treatment. This article added a new perspective to field of regenerative endodontics.

       

Vital pulp therapy as a conservative approach for management of invasive cervical root resorption: A case series

Asgary एस, Nourzadeh M., वर्मा पी., हिक्स M.L., Nosrat एक.

Endodontics के जर्नल, 2019;45(9): 1161-1167

Invasive Cervical Root Resorption (ICRR) presents a clinical dilemma and challenge to endodontic clinicians. It is a dilemma because the exact etiology of this pathologic condition is not known.The most common conditions associated with this resorption are history of trauma and orthodontic treatments.It is a challenge because a definitive treatment protocol with a predictable outcome is not discovered yet. Pulp tissue remains normal in most cases with ICRR. Thus, an internal excavation of the resorption and vital pulp therapy (VPT) can preserve the periodontium as well as the vitality of the tooth. In this article, six molar teeth diagnosed with ICRR were treated with internal excavation and different VPT techniques. All teeth were clinically and radiographically successful during recalls. The outcome of this case series article presented a novel and conservative approach for treatment of ICRR.

     

Regenerative Endodontics: A Scientometric and Bibliometric Analysis

Shamszadeh S., Asgary एस, Nosrat एक.

Endodontics के जर्नल, 2019;45(3): 272-280

Scientometirc analyses are done to determine the level of evidence, the quantity and quality of publications, and the major players (Authors, Journals, Countries) in a scientific field. Scientometirc analyses are common in the field of medicine, but they are rare in the field of dentistry and endodontics. This scientometric analysis showed that the total number of publications in the field of regenerative endodontics has exponentially grown over the past decade, with an average growth rate of 40.4%. The overall ratio of articles with LOE 1 is still low. A total of 1820 authors in 53 countries contributed to the research in this field. Journal of Endodontics published the highest number of papers in this field.The United Sates was the leadcountry regarding the number of publications, citations,and international collaborations. Research groups around the globe are urged to focus their collaborative efforts on higher-quality research to address the clinical needs.

     

Clinical, radiographic and histologic outcome of regenerative endodontic treatment in human teeth using a novel collagen-hydroxyapatite scaffold

Nosrat एक., Kolahdouzan A., Khatibi A.H., वर्मा पी., Jamshidi D., Nevins A.J., Torabinejad एम.

Endodontics के जर्नल, 2019;45(2): 136-143

Histological examination of teeth after regenerative endodontic treatment (सही) shows that the type, quality and quantity of tissues formed in the root canal space is not predictable. A new collagen-based scaffold, SynOss Putty, has shown promising clinical results when used in RET. तथापि, there were no histological data on the the newly-formed tissues in human teeth. In this study, पहली बार, we examined clinical, radiographic and histological outcome of RET in human teeth using SynOss Putty as scaffold. The results showed that SynOss Putty has a unique capacity in inducing formation of a new mineralized tissue in immature human teeth following RET. This new tissue solidifies with the dentinal walls, and therefore, can increase the fracture resistant in immature teeth. This new mineralized tissue was different from the loose connective tissue formed following the use of blood clot as scaffold.

     

जीवाणुरोधी प्रभावकारिता और endodontic सामयिक एंटीबायोटिक दवाओं के मलिनकिरण संभावित

Alsaeed टी, Nosrat एक., मेलो M.A, वांग पी, Romberg ई, जू एच, फौद A.F.

Endodontics के जर्नल, 2018;44(7):1110-1114

इस पूर्व vivo अध्ययन क्षमता के साथ एंटीबायोटिक / हाइड्रोजेल मिश्रण के कई सांद्रता के लिए रोगाणुरोधी प्रभावकारिता और रंग मतभेद की जांच की
पुनर्योजी endodontic चिकित्सा में दवाई के रूप में उपयोग. निष्कर्ष सबसे प्रभावी और कम से कम discoloring का चयन करने में प्रदाताओं मार्गदर्शन किया
एजेंट. अध्ययन से पता चला है कि एंटीबायोटिक दवाओं की कम सांद्रता मलिनकिरण संभावित बिना उच्च सांद्रता के रूप में के रूप में जीवाणुरोधी हो सकता है. इस अध्ययन के लिए एक नया एंटीबायोटिक की जीवाणुरोधी प्रभावकारिता और मलिनकिरण संभावित परीक्षण किया, Tigecycline, पहली बार.

 

       

खतरों अनुचित औषधालय की: साहित्य की समीक्षा और एक दुर्घटना क्लोरोफॉर्म इंजेक्शन की रिपोर्ट

वर्मा पी., Nosrat एक., Tordik पी.

Endodontics के जर्नल, 2018;44(6):1042-1047

कई स्पष्ट, पारदर्शी समाधान Endodontics में उपयोग किया जाता है. अनुचित वितरण के तरीकों आकस्मिक इंजेक्शन या आकस्मिक सिंचाई का कारण बन सकता. इन दुर्घटनाओं हड्डी को नुकसान सहित स्थायी ऊतक नुकसान हो सकता है, periodontium, नसों और वाहिका. यह लेख एक आकस्मिक क्लोरोफॉर्म इंजेक्शन की भयावह परिणामों पर रिपोर्ट, और आकस्मिक इंजेक्शन और आकस्मिक सिंचाई पर प्रकाशित साहित्य की एक समीक्षा प्रस्तुत. हमारा लक्ष्य Endodontics में इस्तेमाल विषाक्तता और सामग्री / समाधान के जैव जानकारी का प्रसार करने के लिए है, एक आकस्मिक इंजेक्शन या आकस्मिक सिंचाई होती है जब और रोगियों के चिकित्सीय प्रबंधन पर दंत छात्रों और endodontic निवासियों को प्रशिक्षित करने के.

         

पुनर्योजी endodontic उपचार या परिगलित pulps और खुला apices साथ दांतों में खनिज त्रिओक्षिदे कुल शिखर प्लग: एक व्यवस्थित समीक्षा और मेटा-विश्लेषण

Torabinejad एम, Nosrat एक., वर्मा पी., Kaleb.

Endodontics के जर्नल, 2017;43(11):1806-1820

व्यवस्थित समीक्षा और मेटा सबूत के उच्चतम स्तर के साथ हमें प्रदान का विश्लेषण करती है. पुनर्योजी endodontic उपचार (सही) Endodontics के क्षेत्र में अनुसंधान का सबसे गर्म विषय है. इस उपचार में, चिकित्सक परिगलित अपरिपक्व दांत एक विशिष्ट कीटाणुशोधन प्रोटोकॉल और एक ऊतक इंजीनियरिंग रणनीति का प्रयोग revitalizes. इस शोध परियोजना आरईटी के लिए साक्ष्य के स्तर को निर्धारित करने के उद्देश्य से. यह भी मौजूदा मानक प्रक्रिया के परिणाम के साथ आरईटी के परिणाम की तुलना करने के उद्देश्य से, एमटीए शिखर प्लग (नक्शा), for the treatment of immature teeth with pulp necrosis. The results showed that the level of evidence for MAP and RET was low.जमा बचने की दर थे 97.1% तथा 97.8%, एमएपी और आरईटी के लिए, क्रमश:.  जमा सफलता दर थे 94.6% तथा 91.3% एमएपी और आरईटी के लिए, क्रमश:.  वहाँ अस्तित्व या सफलता दर के बारे में दो समूहों के बीच कोई महत्वपूर्ण अंतर था. अधिक उच्च स्तर नैदानिक ​​अध्ययन (अर्थात. यादृच्छिक चिकित्सीय परीक्षणों) इन दो उपचार रूपरेखा के परिणाम की तुलना की जरूरत है.

         

दाढ़ की दाढ़ में तालु नहर आकृति विज्ञान के भिन्न रूप: एक मामले श्रृंखला और साहित्य की समीक्षा

Nosrat एक., वर्मा पी., हिक्स M.L., श्नाइडर एस.सी., एक Behnia, a.The अजीम.

Endodontics के जर्नल, 2017;43(11):1888-1896

दाढ़ की दाढ़ में Palatals नहरों endodontic चिकित्सकों के लिए करने के लिए इलाज आसान माना जाता है क्योंकि वे अन्य नहरों की तुलना में बड़ा है और कम घुमावदार हैं. तथापि, इन नहरों में रूट कैनाल उपचार संरचनात्मक बदलाव के के मामले में चुनौतीपूर्ण हो सकता है. This case series showed that experienced endodontic clinicians can miss a bifurcated palatal canal if they are not aware of these anatomical variations. The review part of this paper shows that although the overall prevalence of anatomical variations in palatal canal of maxillary molars is low (<2%), यह तक पहुँच सकते हैं 33% दाढ़ की पहली दाढ़ में और अप करने के लिए 14% कुछ जातीय समूहों में दाढ़ की दूसरी दाढ़ में (अर्थात. भारतीयों, पाकिस्तानियों, और तुर्की).

          

hyperplastic / अपरिवर्तनीय pulpitis साथ दाढ़ में दांत निकालने के लिए एक विकल्प के रूप में पूर्ण pulpotomy के उपचार के परिणामों: एक मामले की रिपोर्ट

Asgary एस, वर्मा पी., Nosrat एक.

ईरानी endodontic जर्नल, 2017;12 (2): 261-265

रूट कैनाल उपचार अत्यधिक सफल प्रक्रियाओं परिपक्व दांत को बचाने के लिए बड़े क्षय के कारण अपरिवर्तनीय pulpitis के साथ का निदान के साथ हैं. लेकिन इन उपचार महंगे हैं और कौशल के एक उच्च स्तर की आवश्यकता होती है, विशेष रूप से दाढ़ दांत में. इसलिये, रूट कैनाल उपचार underserved लोगों के लिए दांत को बचाने के लिए एक यथार्थवादी विकल्प नहीं हो सकता है, दंत चिकित्सा बीमा के बिना लोगों को, या उन लोगों के लिए है जो अत्यधिक कुशल दंत चिकित्सकों के लिए पहुँच नहीं है. नतीजतन, कई restorable दांत हर साल निकाले जाते हैं. रूट कैनाल उपचार के लिए एक वैकल्पिक एक हो जाएगा “pulpotomy” biocompatible सामग्री का उपयोग. परिपक्व दांतों की pulpotomy पर नैदानिक ​​अध्ययन सीमित हैं. यह लेख एक उपन्यास biomaterial का उपयोग कर pulpotomy के सफल परिणाम दो दाढ़ में किया पता चलता, CEM सीमेंट. 2 साल का पालन अप चिकित्सकीय और radiographically प्रलेखित है (2डी और 3 डी). निष्कर्ष के तौर पर, जैवसक्रिय सीमेंट के साथ pulpotomy का विकल्प दांत निकालने के लिए कोई वास्तविक विकल्प हो सकता है अगर रूट कैनाल संभव नहीं है.

                  

पल्प उत्थान के परिणाम विवो में पर अवशिष्ट बैक्टीरिया का प्रभाव.

वर्मा पी, Nosrat एक, किम जे आर, मूल्य जेबी, वांग पी, Bair E, जू एचएच, फौद वायुसेना.

चिकित्सकीय अनुसंधान के जर्नल. 2017; जनवरी 96(1):100-106

इस परियोजना Endodontists फाउंडेशन के अमेरिकन एसोसिएशन द्वारा वित्त पोषित और प्रतिष्ठित जर्नल में प्रकाशित हुआ था JDR, जो लगातार शुमार #1 या #2 सभी दंत पत्रिकाओं के बीच प्रभाव कारक के आधार पर. अध्ययन का उद्देश्य निर्धारित करने के लिए था, radiographically और histologically, लुगदी उत्थान प्रक्रियाओं पर अवशिष्ट संक्रमण का प्रभाव. यह भाल कुत्ते मॉडल का उपयोग कर जानवर के अध्ययन में था. दो समूह थे- एक उपन्यास ऑटोलॉगस स्टेम कोशिका प्रत्यारोपण विधि के साथ एक, और पुनर्योजी Endodontics के लिए पारंपरिक खून का थक्का विधि के साथ अन्य. इस अध्ययन के परिणामों से पता चला, पहली बार, अवशिष्ट बैक्टीरिया पुनर्योजी endodontic प्रक्रियाओं के परिणाम पर एक महत्वपूर्ण नकारात्मक प्रभाव है कि.

            

कक्षा के रूढ़िवादी प्रबंधन 4 आक्रामक गर्भाशय-ग्रीवा रूट अवशोषण कैल्शियम-समृद्ध मिश्रण सीमेंट का उपयोग करना.

Asgary एस, Nosrat एक.

Endodontics के जर्नल. 2016; अगस्त 42(8):1291-4.

वर्ग का उपचार 4 आक्रामक गर्भाशय-ग्रीवा अवशोषण एक चुनौती है. लगभग सभी उपचार दृष्टिकोण (शल्य चिकित्सा या गैर-शल्य चिकित्सा) periodontal ऊतकों को व्यापक क्षति या पुन: शोषण को रोकने के लिए अक्षमता या तो की वजह से प्रतिकूल परिणाम. यह लेख वर्ग के एक मामले के सफल प्रबंधन के प्रस्तुत करता है 4 आक्रामक गर्भाशय-ग्रीवा अवशोषण एक युवा महिला में एक उपन्यास noninvasive nonsurgical दृष्टिकोण है जो के बारे में उसके सामने वाला दांत ढीला करने के लिए था का उपयोग कर. एक जैवसक्रिय सीमेंट, CEM सीमेंट, पुन: शोषण को रोकने और periodontal ऊतकों में चिकित्सा प्रेरित करने के लिए रूट कैनाल भरने सामग्री के रूप में इस्तेमाल किया गया था.

                  

अलगाव, निस्र्पण, और Ferrets में डेंटल पल्प स्टेम सेल का विभेदन.

Homayounfar एन, वर्मा पी, Nosrat एक, एल Ayachi मैं, यू जेड, Romberg ई, हुआंग जी.टी., फौद वायुसेना.

Endodontics के जर्नल. 2016; 42(3):418-24.

इस परियोजना एंडोडोंटिस्ट फाउंडेशन के अमेरिकन एसोसिएशन द्वारा वित्त पोषित किया गया (AAEF). फेर्रेट के दाँत पुनर्योजी endodontic उपचार और इन उपचार के लिए ऊतक इंजीनियरिंग रणनीतियों का अध्ययन करने के लिए एक उपयुक्त मॉडल हैं. अध्ययन पहली बार के लिए भाल के दंत लुगदी स्टेम कोशिकाओं के भेदभाव विशेषताओं की जांच करने के उद्देश्य से. इस अध्ययन के नतीजे बताते हैं कि भले ही भाल दंत लुगदी स्टेम सेल मानव दंत लुगदी स्टेम कोशिकाओं की कुछ विशेषताएं नकल सकता है, लेकिन वे कुछ अन्य पहलुओं में अलग हैं. इन मतभेदों को जब जानवरों के अध्ययन चल रहा है और उन अध्ययनों के परिणामों की व्याख्या विचार किया जाना चाहिए.

                   

असंक्रमित मानव अपरिपक्व दांत की ऊतकीय परिणाम पुनर्योजी Endodontics के साथ इलाज: दो मामले की रिपोर्ट

Nosrat एक, Kolahdouzan एक, होसेनी एफ, और Mehrizi, वर्मा पी, Torabinejad एम

Endodontics के जर्नल 2015; 41(10):1725-9

इस अध्ययन एक मामले की रिपोर्ट जो पहली बार के लिए गैर संक्रमित मानव दांत में पुनर्योजी endodontic उपचार के ऊतकीय परिणामों दस्तावेजों है. प्रयोग क्योंकि orthodontic उपचार की निकासी के लिए योजना बनाई दांत पर किया गया था. इस शोध बताते हैं AAE द्वारा प्रकाशित वर्तमान प्रोटोकॉल की कमी आने. यह भी मानव दांत में ऊतक इंजीनियरिंग रणनीतियों के परिणामों का अध्ययन करने के लिए एक उपयुक्त मॉडल स्थापित करता है. इस अध्ययन भविष्य के अध्ययनों के बारे में हमें नए विचारों दे दी है. तीन चल रहे तैयार किया गया है परियोजनाओं इस पत्र के आधार पर कर रहे हैं.

               

चार रूट नहरों के साथ एक दाढ़ की हड्डी पार्श्व कृंतक और एक Dens Invaginatus पथ की endodontic प्रबंधन

Nosrat एक, श्नाइडर अनुसूचित जाति

Endodontics के जर्नल. 2015;41(7):1167-71

चिकित्सकों आदेश एक कुशल रूट कैनाल उपचार करने के लिए दांतों की आंतरिक शरीर रचना विज्ञान के बारे में पता करने की जरूरत. दाढ़ की हड्डी पार्श्व कृन्तक एक भी नहर के साथ एक एकल निहित दांत माना जाता है. इस अध्ययन में पांच नहरों के साथ एक दाढ़ की हड्डी पार्श्व कृंतक का सफल उपचार के दस्तावेजों. सीबीसीटी इमेजिंग का उपयोग करना, हम दांत की एक 3 डी छवि का निर्माण किया और दो सत्रों में सभी नहरों के इलाज के लिए एक विशिष्ट दृष्टिकोण के लिए बनाया गया. इस अध्ययन न केवल मानव दांत में संरचनात्मक बदलाव के प्रकाश डाला गया है, लेकिन यह भी दिखाता है कि 3 डी इमेजिंग Endodontics में उपचार दृष्टिकोण की रणनीति के लिए इस्तेमाल किया जा सकता.

                    

नकली शरीर के तरल पदार्थ में दंती साथ Biodentine और एमटीए की इंटरफेसियल विशेषताओं.

किम जे आर, Nosrat एक, फौद वायुसेना

दंत चिकित्सा के जर्नल. 2015;43(2):241-7

इस अध्ययन मैरीलैंड बाल्टीमोर के विश्वविद्यालय से Sherril एन सीगल मेमोरियल endodontic अनुसंधान पुरस्कार द्वारा वित्त पोषित किया. एमटीए की तरह कैल्शियम सिलिकेट आधारित सीमेंट व्यापक रूप से दंत चिकित्सा में इस्तेमाल किया जा रहा. वे जैवसक्रिय कर रहे हैं और नमी के संपर्क में Hydroxyapatite का उत्पादन. यह एक बहुत महत्वपूर्ण विशेषता है जो उन्हें biocompatible बनाता है और सील की क्षमता की तरह कई अन्य सुविधाएँ देता है, सख्त ऊतक प्रेरण संभावित, आदि. Biodentine एक अपेक्षाकृत नई सामग्री जो एमटीए जैसे पुराने सीमेंट की तुलना में कई नैदानिक ​​फायदे है. तथापि, कैसे सामग्री हमारे शरीर में काम करेंगे के बारे में डेटा सीमित है. इस अध्ययन के लिए एक वातावरण में Biodentine की bioactivity पहली बार के लिए मानव शरीर के लिए इसी तरह के दस्तावेजों. नतीजे बताते हैं कि हालांकि Biodentin एमटीए की तुलना में बहुत तेजी से सेट लेकिन इसकी bioactivity एमटीए के रूप में के रूप में महान नहीं है और इस नैदानिक ​​स्थितियों में मुद्दों अतिरिक्त समय का कारण हो सकता. भविष्य के अध्ययनों इन नए जैवसक्रिय सीमेंट की लंबी अवधि के परिणाम पर ध्यान देना चाहिए.

                     

जबड़े दाढ़ में मध्य बीच का नहरें: घटना और संबंधित कारक.

Nosrat एक, Deschenes आरजे, Tordik पीए, हिक्स एमएल, फौद वायुसेना.

Endodontics के जर्नल. 2015, 41(1):28-32

रूट कैनाल उपचार की विफलता के लिए प्रमुख कारणों में से एक नहरों याद किया जाता है. चिकित्सक दांत के आंतरिक शरीर रचना विज्ञान के बारे में पर्याप्त ज्ञान नहीं है तो वे जो उपचार की विफलता का कारण बन सकता है कुछ विवरण वंचित हो सकते हैं. जबड़े दाढ़ दांत सबसे अधिक बार निकाला रूट कैनाल उपचार निम्नलिखित दांत हैं. There is a rare canal in these teeth called “middle mesial canalwhich most of the time being overlooked during the treatment. इस अध्ययन विभिन्न आयु समूहों और विभिन्न जातियों में इस विशेष नहर की घटनाओं दस्तावेजों. इस अध्ययन के बहुत सबसे महत्वपूर्ण खोज इस नहर के प्रसार कम उम्र के रोगियों में काफी अधिक है कि है (< 20 साल पुराना). चिकित्सकों जब युवा रोगियों के उपचार के लिए इस नहर देखने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है. इस पत्र जनवरी के Endodontics के जर्नल अंक के कवर किए गए 2015.

                         

साथ और pulpal संक्रमण के बिना पुनर्योजी प्रक्रियाओं के बाद हीलिंग.

फौद वायुसेना, वर्मा पी.

जम्मू Endod. 2014 अप्रैल;40(4 आपूर्तिकर्ता):S58-64.

This is a review paper published as proceedings to the “Pulp Biology and Regeneration Group Meetingheld in March 2013 सैन फ्रांसिस्को में.

इस पत्र संक्रमित और गैर संक्रमित रूट कैनाल रिक्त स्थान के बीच मतभेद पर विशेष ध्यान देने के साथ पुनर्योजी endodontic उपचार के जैविक पहलुओं पर प्रकाश डाला गया. अन्य अध्ययनों में दिखाया गया है, अवशिष्ट संक्रमण पुनर्योजी उपचार के परिणाम पर एक हानिकारक प्रभाव पड़ता. इस पत्र उन शोध गैर संक्रमित मॉडल पर किया जाता है और वास्तविक नैदानिक ​​स्थितियों में, जहां चिकित्सकों अपरिपक्व दांतों में मुश्किल को दूर संक्रमण के साथ काम कर रहे हैं के बीच अंतराल पर प्रकाश डाला गया. पहले से संक्रमित दांत में पल्प उत्थान अभी भी एक चुनौती है. अधिक नैदानिक ​​और जानवरों के अध्ययन इस क्षेत्र में एक आदर्श उपचार प्रोटोकॉल तक पहुँचने के लिए की जरूरत है.

                           

एर की प्रभावकारिता,सीआर:दो अलग-अलग उत्पादन शक्तियों के साथ स्मियर लेयर और मलबा निकाला जा रहा है में YSGG लेजर.

Bolhari बी, एहसान एस, Etemadi एक, Shafaq एम, Nosrat एक

Photomed लेजर सर्जन. 2014 अक्टूबर;32(10):527-32

नई प्रौद्योगिकियों हमेशा Endodontics के क्षेत्र में अनुसंधान का विषय रहा है. लेजर विकिरण दंत चिकित्सा में कई संभावित अनुप्रयोगों है. लेजर विकिरण संभावित क्षतशोधन की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए रूट कैनाल सिंचाई के लिए एक सहायता के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता. इस शोध में हम सिंचाई के समाधान के लिए एक संभावित स्थानापन्न के रूप में रूट कैनाल अंतरिक्ष के दन्त-ऊतक दीवारों पर लेजर विकिरण की सफाई प्रभाव का मूल्यांकन करने के उद्देश्य से. इस परियोजना के परिणाम साबित कर दिया कि लेजर विकिरण संभावित विशिष्ट उत्पादन शक्तियों में हमारे पारंपरिक रूट कैनाल सिंचाई के लिए एक स्थानापन्न हो सकता है. यह भी पता चलता है कि अगर लेजर उच्च शक्ति के साथ या एक लंबे समय के लिए प्रयोग किया जाता है (कुछ सेकंड की तुलना में अधिक) यह रूट कैनाल अंतरिक्ष के दन्त-ऊतक की दीवारों के लिए अपूरणीय क्षति का कारण बन सकती.

                      

एक असफल आंतरिक जड़ अवशोषण उपचार के सर्जिकल प्रबंधन: एक ऊतकीय और नैदानिक ​​रिपोर्ट.

Asgary एस, एमजे Eghbal, mehrdad एल, Kheirieh एस, Nosrat एक

ReSTOR डेंट Endod. 2014 मई;39(2):137-42

जड़ resorptions का उपचार Endodontics में एक चुनौती है. यह ज्ञान और एटियलजि निर्धारित करने के लिए प्रयास की एक महत्वपूर्ण राशि ले जाता है, विस्तार और एक सफल उपचार योजना. कुछ मामलों में एक गैर-शल्य दृष्टिकोण अवशोषण को रोकने के लिए पर्याप्त होगा, अन्य मामलों में एक शल्य दृष्टिकोण या दोनों तरीकों का एक संयोजन की जरूरत है. इस रिपोर्ट में आंतरिक अवशोषण जहां एमटीए का उपयोग कर प्रारंभिक उपचार का एक दुर्लभ मामला दस्तावेजों (एक मानक इन मामलों में सामग्री का इस्तेमाल किया) असफ़ल रहा था. दांत अंत में एक उपन्यास जैवसक्रिय सीमेंट CEM कहा जाता है का उपयोग कर एक सर्जरी करने से बचा लिया गया था.

                   

एक उपन्यास जड़ अंत भरने का उपयोग कर दाढ़ की दाढ़ को एक साथ जानबूझकर पौधरोपण

Asgary एस, Nosrat एक

जनरल डेंट. 2014 मई-जून;62(3):30-3

जब एक रूट कैनाल उपचार विफल रहता है और एक उपचार या एक रूट अंत सर्जरी व्यावहारिक नहीं हैं एक उपचार विकल्प जानबूझकर पौधरोपण किया जाएगा. इस प्रक्रिया में हम दांत निकालने, रूट कैनाल उपचार संबंधी समस्याओं को ठीक और दांत आरोपित और समय की एक छोटी अवधि के लिए उसे स्थिर. यह प्रक्रिया दांत को बचाने के लिए एक अंतिम उपाय है. इस पत्र में हम विफल रही रूट कैनाल उपचार के साथ दो दाढ़ की दाढ़ का साथ-साथ जानबूझकर पौधरोपण सूचना दी. मरीज को एक उपचार या एक रूट अंत सर्जरी के माध्यम से जाना नहीं चाहता था. वहाँ दो उपन्यास इस मामले से संबंधित पहलू हैं: एक ही समय में दो दाढ़ के लिए इस प्रक्रिया कर रही है; और एक उपन्यास जैवसक्रिय सीमेंट CEM जड़ अंत भरने सामग्री के रूप में कहा जाता है का उपयोग कर. इस के सफल परिणाम एक दो साल का पालन अवधि के दौरान प्रलेखित किया गया था.

                 

दंत लुगदी उत्थान में ऊतक इंजीनियरिंग विचार

Nosrat एक, किम जे आर, वर्मा पी, चंद पी

ईरानी endodontic जर्नल 2014; 9: 30-39

पल्प उत्थान Endodontics में अनुसंधान के लिए एक गर्म विषय है. कई अलग-अलग ऊतक इंजीनियरिंग प्रयोगशालाओं में परीक्षण किया जा रहा संपर्क कर रहे हैं, पशुओं और मानव. इस पत्र आमंत्रित समीक्षा जो इस क्षेत्र के अंत तक किया के क्षेत्र में अनुसंधान के परिणाम को सारांशित है 2013.

                   

endodontic biomaterials बनाम कैल्शियम हाइड्रोक्साइड के साथ pulpotomy की ऊतकीय परिणाम पर एक प्राथमिक रिपोर्ट

Nosrat एक, Peimani के रूप में, Asgary एस

दृढ दंत चिकित्सा और Endodontics 201; 38: 227-33

कुछ विशिष्ट नैदानिक ​​स्थितियों में एंडोडोंटिस्ट रूट कैनाल उपचार के बजाय एक महत्वपूर्ण लुगदी चिकित्सा करने से दांत की जीवन शक्ति को बचाने के लिए सक्षम हो सकता है. उपचार के इस प्रकार मुख्य रूप से युवा रोगी जिसका दांत अपरिपक्व हैं और जड़ों अभी भी विकसित कर रहे हैं के लिए किया जाता है. महत्वपूर्ण लुगदी चिकित्सा में इस्तेमाल की गई सामग्री के प्रकार के उपचार के परिणाम में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता. प्लस, महत्वपूर्ण लुगदी उपचार के परिणाम के बारे में मानव दांत पर ऊतकीय पढ़ाई बहुत दुर्लभ हैं. इस परियोजना में हम CEM सीमेंट नामक एक उपन्यास endodontic biomaterial के साथ मानव दांत में महत्वपूर्ण लुगदी चिकित्सा के ऊतकीय परिणाम का मूल्यांकन. हम ज्ञान दांत निकासी के लिए निर्धारित करते थे. अध्ययन के परिणाम इस नई biomaterial के लिए अनुकूल नतीजे बताते हैं पारंपरिक सामग्री की तुलना में, एमटीए.

                

एर का असर,सीआर:RealSeal एसई सीलर की धक्का-बाहर बंधन बल पर YSGG लेजर विकिरण

एहसान एस, Bolhari बी, Etemadi एक, Ghorbanzadeh एक, Sabet, Nosrat एक

Photomedicine और लेजर सर्जरी 2013; 31: 578-85

लेजर विकिरण संभावित क्षतशोधन की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए रूट कैनाल सिंचाई के लिए एक सहायता के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता. एक तरीका यह प्रभाव का आकलन करने के लिए लेजर द्वारा इलाज किया जा रहा करने के बाद रूट कैनाल भरण की गुणवत्ता को देखने के लिए है. इस शोध परियोजना में हम लेजर उपचार के बाद एक विशेष रूट कैनाल भरने सामग्री की धक्का-बाहर बंधन ताकत की जांच की. परिणाम पुष्टि की है कि लेजर विकिरण रूट कैनाल सिंचाई के लिए एक मूल्यवान इसके अलावा हो सकता है.

                   

जड़ परिपक्वता के लिए लुगदी उत्थान के लिए आवश्यक है?

Nosrat एक, ली के लिए, कश्मीर के लिए, हिक्स एम, फौद एक

Endodontics के जर्नल 2013; 39: 1291-5

इस पत्र एक मामले की रिपोर्ट जो एक बहुत ही महत्वपूर्ण पुनर्योजी endodontic उपचार से संबंधित अवधारणा साबित होता है. वहाँ एक पहले से संक्रमित रूट कैनाल अंतरिक्ष में लुगदी ऊतक को पुनर्जीवित करने के इतने सारे चुनौतियां हैं. इस पत्र एक मामले में जहां लुगदी उत्थान में विफल रहा है दस्तावेजों और रूट कैनाल अंतरिक्ष पुनः प्रवेश पर खाली था. इस पत्र से पता चलता है कि कैसे लुगदी उत्थान के लिए एक आदर्श संक्रमण नियंत्रण एक अपरिपक्व दांत में चुनौतीपूर्ण हो सकता है. यह भी कि लुगदी उत्थान की विफलता के बावजूद चलता, जड़ परिपक्वता प्राप्त.

                   

एमटीए के संपीड़न बल पर रक्त संक्रमण के प्रभाव का मूल्यांकन जलयोजन त्वरक साथ संशोधित.

Oloomi कश्मीर, और साबेरी, Mokhtari H, Mokhtari Znouzi मानव संसाधन, Nekoofar एमएच, Nosrat एक, Dummer पी

दृढ दंत चिकित्सा और Endodontics 2013, 38(3):128-33

रक्त संदूषण दंत चिकित्सा में विशिष्ट सामग्री के साथ समस्या पैदा कर सकते. कुछ दंत सामग्री नमी के साथ संगत कर रहे हैं और प्रयोग की जाने वाली है, जहां रक्त संदूषण एक संभावना है तैयार कर रहे हैं. आम तौर पर, सभी कैल्शियम सिलिकेट-सीमेंट नमी संगत होने का दावा किया जाता है. तथापि, अनुसंधान अध्ययनों से पता चलता है कि रक्त संदूषण उनके भौतिक गुणों में से कुछ को प्रभावित कर सकते. इस परियोजना में हम रक्त संदूषण निम्नलिखित एमटीए के संपीड़न ताकत का मूल्यांकन. नतीजे बताते हैं कि रक्त संदूषण वास्तव में एमटीए के संपीड़न ताकत कम. चिकित्सकों एमटीए का उपयोग करते समय रक्त संदूषण से बचने के अनुशंसा की गई थी.

                    

पहली दाढ़ की दाढ़ में व्यापक अज्ञातहेतुक बाहरी जड़ अवशोषण: एक मामले की रिपोर्ट

Bolhari बी, Meraji N, Nosrat एक

ईरानी endodontic जर्नल 2013; 8(2): 72-4

रूट resorptions कम समझे दंत रोगों में से एक हैं. resorptions में से कुछ के एटियलजि अच्छी तरह से जाना जाता है. लेकिन कुछ अन्य लोगों के अज्ञातहेतुक हैं, जिसका अर्थ है कि एटियलजि अज्ञात है. अज्ञातहेतुक जड़ resorptions दंत चिकित्सक के लिए एक चुनौती का प्रतिनिधित्व. चूंकि कारण अज्ञात है वहाँ कारण का पता और अवशोषण को रोकने के लिए कोई विशेष उपचार है. हम सभी एक शोधकर्ता के रूप में कर सकते हैं विस्तार से रोगी के दंत चिकित्सा और चिकित्सा के इतिहास का मूल्यांकन करें और एक विशिष्ट दंत या चिकित्सा की स्थिति और जड़ अवशोषण के बीच एक संबंध खोजने की कोशिश करने के लिए है. जब एक विशिष्ट दंत प्रक्रिया या चिकित्सा स्थिति जड़ अवशोषण के साथ रोगियों के इतिहास में बार-बार पाया जाता है तो हम एक संबंध बना सकते हैं. इस पत्र 3 डी इमेजिंग और रेडियोग्राफ का उपयोग कर मूल्यांकन किया जाता व्यापक अज्ञातहेतुक जड़ अवशोषण के एक मामले का प्रतिनिधित्व करता है. रोगी का एक विस्तृत दंत चिकित्सा और चिकित्सा के इतिहास का प्रतिनिधित्व किया था और जांच की.

                   

क्षय-सामने आ अपरिपक्व स्थायी दाढ़ में Pulpotomy कैल्शियम समृद्ध मिश्रण सीमेंट या खनिज त्रिओक्षिदे कुल का उपयोग कर: एक यादृच्छिक चिकित्सीय परीक्षण.

Nosrat एक, एक Seifi, Asgary एस

पीडियाट्रिक डेंटिस्ट्री के इंटरनेशनल जर्नल 2013, 23(1): 56-63

शोध अध्ययनों सबूत के स्तर वे प्रतिनिधित्व के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है. बेतरतीब क्लिनिकल परीक्षण नैदानिक ​​अनुसंधान में सबूत के उच्चतम स्तर हैं. युवा रोगियों की अपरिपक्व दांतों में endodontic उपचार (7-10 साल पुराना) बड़े क्षय के साथ एक चुनौती है. एंडोडोंटिस्ट बजाय एक "महत्वपूर्ण लुगदी चिकित्सा" करके रूट कैनाल उपचार करने का दांत के जीवन शक्ति को बचाने के लिए माना जाता है. महत्वपूर्ण लुगदी चिकित्सा पूर्ण pulpotomy के रूप जहां लुगदी के सबसे सूजन हिस्सा निकाल दिया जाएगा में किया जा सकता है और यह के बाकी जड़ों के विकास जारी रखने के लिए अनुमति देने के लिए एक जैवसक्रिय सामग्री के साथ कवर किया जाएगा. इस अध्ययन pulpotomy के परिणामों की तुलना में एक पारंपरिक सामग्री मुकदमा, एमटीए, एक उपन्यास सामग्री की तुलना में, CEM सीमेंट. यह इस क्षेत्र में प्रकाशित पहले चिकित्सीय परीक्षण था और कागज अत्यधिक दुनिया भर के सभी उद्धृत किया गया है.

                 

पहले से संक्रमित रूट कैनाल अंतरिक्ष में पल्प उत्थान

फौद एक, Nosrat एक

endodontic विषय, 2013; 28:24-37

इस पत्र आमंत्रित समीक्षा है. Endodontic विषय Endodontists के अमेरिकन एसोसिएशन की एक वार्षिक प्रकाशन है (AAE) और यह केवल आमंत्रित समीक्षा प्रकाशित करता है. पहले से संक्रमित जड़ नहरों में पल्प उत्थान के लिए एक गंभीर चुनौती है. Complete disinfection of the root canal space affects the biological outcome of the regenerative procedures. On the other hand, leaving bacteria behind in the root canal space can cause failure of the treatment. This paper reviews all these issues to make clear picture of this challenge. It also makes recommendations for future research in this field.

                  

Drawbacks and unfavorable outcomes of regenerative endodontic treatments of necrotic immature teeth: A literature review and report of a case

Nosrat एक, Homayounfar एन, Oloomi कश्मीर

Endodontics के जर्नल, 2012; 38(10): 1428-34.

As regenerative endodontic treatments become more popular among clinicians they face more adverse effects and unfavorable outcomes. These situations need to be brought to the attention of the clinicians and they have to inform the patient when planning for such treatments. This paper is a review paper which also reports a case with unfavorable outcome. The review part documents all technical issues with this new treatment, gives clinical recommendations on how avoid the adverse effects, and also gives recommendations for future research. This paper has been cited frequently by other researchers in the field.

                 

Unintentional extrusion of mineral trioxide aggregate: a report of three cases

Nosrat एक, Nekoofar M, Bolhari बी, Dummer पी

International Endodontic Journal 2012, 45(12):1165-76.

MTA is a biocompatible material being used in dentistry for close to two decades. Numerous and animal and lab studies have shown its biocompatibility. MTA can be used as root canal filling material. Due to its biocompatibility there is a misconception that this material can be extruded beyond the apex with no consequences. Our clinical experience showed that this is true in most cases but not in all. In this paper we reported three cases with extrusion of MTA. One case turned to be successful overtime, and the other two failed and required further treatment. As a conclusion, we recommended the clinicians to limit the MTA root canal fillings to the canal boundaries and be cautious about the overextensions of the material.

               

Periapical healing after direct pulp capping with calcium-enriched mixture cement: एक मामले की रिपोर्ट.

Asgary एस, Nosrat एक, Homayounfar एन

Operative Dentistry 2012; 37(6): 571-5

The healing potential of the pulp tissue is not very well understood. While patients at different ages can represent with the same symptoms when they have pulpal diseases the treatment can differ based on their age. Direct pulp capping is a vital pulp therapy suggested for deep cavities when the patient has no symptoms. Direct pulp capping on symptomatic patients is not recommended due to high chance of failure. We believe that patient’s age plays a crucial role in the outcome of these treatments. This paper reports a successful direct pulp capping done in a symptomatic patient. We used a novel bioactive cement called CEM cement for the treatment.

                   

Calcium-enriched mixture cement as artificial apical barrier: a case series.

Nosrat एक, Asgary एस, Eghbal M, Ghoddusi J, Bayat-Movahed S

Journal of Conservative Dentistry 2011, 14(4): 427-31

This paper is a case series where a novel bioactive cement (CEM सीमेंट) was used as a root canal filling material in immature teeth with open apices. For decades, root canal filling of these teeth was a challenge for dentists and endodontists until MTA was introduced to dentistry. Although MTA has been successfully used for several years it is a difficult-to-use material and has some other issues like discoloration potential. CEM cement is easier to use and does not discolor teeth. We followed up all these cases until the periapical lesions healed completely in all of them.

                   

पुनर्योजी endodontic उपचार (revascularization) for necrotic immature permanent molars: a review and report of two cases with a new biomaterial.

Nosrat एक, एक Seifi, Asgary एस

Endodontics के जर्नल 2011; 37(4): 562-7

After regenerative endodontic treatments were introduced researchers and clinicians tried different techniques and modifications in order to improve the outcome. All the reported cases till 2011 were single rooted teeth with a single canal (anterior teeth and some premolars). In this paper we successfully revitalized two infected immature molar teeth for the first time by making minor changes in the treatment techniques. This paper has been highly cited by researchers and is one of the references for the Regenerative Endodontic Treatment protocol published by the American Association of Endodontists.

                

Management of inflammatory external root resorption by using calcium-enriched mixture cement: एक मामले की रिपोर्ट.

Asgary एस, Nosrat एक, एक Seifi

Endodontics के जर्नल 2011; 37(3):411-3

One of the serious consequences of trauma to the teeth is inflammatory root resorption. If left untreated, this type of resorption can destroy the entire root structure within few weeks and make the tooth mobile and hopeless. This resorption is most of the time asymptomatic and can only be diagnosed by taking radiographs. The routine protocol requires the clinicians to do a long term disinfection process using calcium hydroxide paste. The patient needs to be very cooperative and attend multiple sessions of treatment. This case report documents treatment of a case of severe inflammatory root resorption due to a traumatic injury. Patient was referred to us because of extensive root resorption and mobility. The novel aspect of the treatment we rendered is that we reduced the period of calcium hydroxide treatment and filled the canal with a new bioactive cement called CEM cement. Forty months follow up of the case documented the favorable results for the treatment.

              

Apexogenesis of a symptomatic molar with calcium enriched mixture.

Nosrat एक, Asgary एस

International Endodontic Journal 2010; 43(10): 940-4

Vital pulp therapies are regularly done in asymptomatic immature teeth with deep caries. Since the healing potential of the pulp tissue is not very well understood, clinicians are encouraged to not perform vital pulp therapies in symptomatic teeth with deep caries. On the other hand, if successful, vital pulp therapy will have significant benefits for the young patients. It allows further root development and can increase the longevity of the tooth. This case report describes a symptomatic permanent immature tooth with deep caries treated for the first time with CEM cement is a bioactive material. The long term follow up of the case shows the success of the treatment and documents root development despite patient’s symptom at the beginning.

                   

Apexogenesis treatment with a new endodontic cement: एक मामले की रिपोर्ट.

Nosrat एक, Asgary एस

Endodontics के जर्नल 2010; 36(5): 912-14

Traumatic injuries to the teeth are common among kids and young adults. These injuries can have severe consequences for the vitality of the tooth. Most of these teeth are immature and have not been developed fully and these injuries can arrest their root development. If the pulp tissue becomes exposed to the oral cavity due to a traumatic fracture clinician should clean and seal the exposed tissue as soon as possible but no later than 48 hours. This paper reports a case of traumatic fracture in an immature front tooth undergone vital pulp therapy using a novel cement, CEM सीमेंट. Another novel aspect in treatment of this case was the time spent between trauma and the treatment which was 4 weeks. Successful outcome of this case showed that the healing potential of the pulp tissue might be beyond of what we know.